Welcome To The God

GOD - Gold Or Diamond

I am a software engineer by profession and have 9 years of work experience. I have quit my job to write a book on ancient gods which was my interest in spiritual areas to know more about our surroundings and about ourselves. This was because of my curiosity to know more about myself and this world which is nothing but a mortal world and is full of sufferings for all of us. I learned about the new God in meditation and found out more about him. I used meditation as the resource to gain more spiritual knowledge in this regard. Since then I have a connection with him and have transcendent him or downloaded him into me using meditation and my knowledge. It is like to be more aware of him within myself and the surroundings.

All of us has heard that God is one for all of us and he is the real God from whom we are born. His name in reality is God since he is existent within us and God is also a name and it belongs to the God himself. He has incarnated himself within all of us as we all are dreams in real inside us and outside we are all human beings. Our ancient gods are also like us except that they are bigger and have more powers. But to the real God or the one God we all are equal and all are dreams in real within us. The God is the master of all the dreams and he is the only male rest all dreams are female for him. His consort is the real dream goddess who is governing all the dreams here in this world within all of us and will reunite with him once he is born and unite with all our dreams with him and go from this world to the world above. The God is forecasted to take birth in this world in early 2000 AD by few renowned astrologers also like Nostradamus. After his departure from here this world will come to an end and will be demolished forever. Because we will be without our dreams and will be like dead and this will happen to all human beings and ancient gods. This will be started by the happening of Pralay or Doomsday which is forecasted to happen soon after 7000 AD. After this it will take more than zillions and zillions of years for this world to come to an end fully like the same time it has taken to come upto this point.

According to the trinity of ancient indian gods brahma, vishnu and mahesh, brahma has also said this that in real we all are dreams within us and once our dreams come out of us or our dreams are gone from here we all will be dead. This means that the ancient gods are also aware of the real one God and all are like dreams to him irrespective of human beings or ancient gods. The real one God has never taken birth before and is from the world above this world and is new to this world. The new God which I am referring to has the real name as The God that means he is the real God. He is not ancient god who has some other name like ancient gods have. Since he has not taken birth before so he has not got any other name. So only he is The God by name and by means. Our world and we all are derived from him so we are born from him and he can be found within us as we all are dreams.

Before this world came into existence there was no another world and The God was omnipresent in meditation in the world above. He wanted to incarnate and to meet others who will be born with him as dreams. He transcendent himself from the world above into this world. Then he distinguished himself into three parts as mind, body and dreams. The mind originated in the upper world in which the ancient gods are present today. The body originated in the lower world where we human beings are present today. The body in the lower world descended the mind into him and the human beings jointly made up the ancient gods in the upper world. And the dreams originated within all of us human beings and ancient gods. In such a way the dreams came into existence initially along with the God but they misunderstood their purpose of birth and underestimated the God out of jealously. Their intention was to kill him and because of this they started producing poison to the God from their body and mind which were us the human beings and the ancient gods. The reason being that their body and mind came out from this world below and this below world was without the God previously so it had nothing but poison filled into it. So the God did not manifested himself along with the dreams at that time and only the dreams came into existence since then along with their body and mind which were human beings in the lower world and ancient gods in the upper world. The purpose of the dreams to come into existence in this world would be to give love to the God and to accept him as their only God and to be happy with him for the rest of their lives which will be with him and immortal for always. But since this did not happen and all those dreams who got birth from the God originated from this below world, they got their body and mind full of poison and thus the God did not incarnate at that time.

Since then dreams came into existence into this world full of Universes and we are born from them as human beings and ancient gods. These human beings and the ancient gods which were born from dreams or came out of dreams are nothing but like ghosts. This means that we are dead without dreams. This body and mind can be called as a ghost (host of God or dreams). And this ghost has survived here in this world because of poison which is filled up in this below world. This world is full of Universes and their are other Universes above and below our Universe and this world is full of poison which is the reason for our such a long survival here. As soon as the poison will end up here we will end up because the poison will not be available for our survival. Therefore the ancient gods came into existence like a mind within all of us which help in originating and storing the available poison found in this world and feed us that poison that is why we are found within them even after death and brought to another life as another body which is again dependent on poison. Now is the time that this poison is used up and finished and no new body with new poison is taking birth in which a dream is found. Only the stored poison is used and originating into the bodies that are taking birth and those are like dead without dreams. Also the reason being the mind in the upper world of the ancient gods is completely descended into the bodies of the human beings in the world below. So new birth of new bodies is now finished. That means all those dreams that could take birth has taken and no new body with dreams will now take birth.

When the God will take birth as a human being he will also inherit the same body and mind full of poison called as a ghost. Then he will kill all those ghosts with body and mind of all of us and will unite with the dreams of all of us within him having our original body and mind as a dream of an individual and without poison. This will be done for our salvation and then he will take us with him in his world above which is a different world from where he has come where we all will be present with him as his dreams come into reality which are us. The world above will be immortal for always as each one of us as a dream will be united there with the God and will become one with him. After he is gone from here united with our dreams after taking our dreams out of us we will be like dead and this world will die including all of us human beings and the ancient gods in the long time as it has come up.

The God is made up of Diamond and the dream goddess is made up of Gold. That’s why we call him as Gold Or Diamond which means the God. Together they are called as God because he is the master of all the dreams and dream goddess is a consort of the God. This dream is found within all of us and we are this dream and will meet the God as a dream. So we will be Gold and he will be Diamond. Together we will be the God. So it depend on us to know more of him so that we will be in touch with him, have a bond with him and will meet him early before others who don’t know yet about him because he has not incarnated before. This will help us to improve our dreams and have good dreams. We need to live a life that come out of our dreams and we will also be like a dream to live since dreams are always true and are like God. After knowing him we will be in peace and there will be no other tension or misunderstanding in life like what will happen to us or others after we die or who will meet us after we go from here. We will be there with him forever as living dreams in the world above after this world is end up.

Please avail the services of this website where you can discuss with me about your thoughts on the new God and get your queries resolved to know more about him. Go to the Services page for more details. 

भगवान - सोना या हीरा

मैं कार्य से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हूं और मुझे 9 साल का कार्य अनुभव है। मैंने प्राचीन देवताओं पर एक पुस्तक लिखने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी, जो आध्यात्मिक क्षेत्रों में मेरी रुचि थी ताकि हम अपने परिवेश और अपने बारे में अधिक जान सकें। यह मेरे और इस दुनिया के बारे में और जानने की मेरी उत्सुकता के कारण था जो एक नश्वर दुनिया के अलावा और कुछ नहीं है और हम सभी के लिए दुखों से भरी है। मैंने ध्यान में नए भगवान के बारे में सीखा और उनके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त की। मैंने इस संबंध में अधिक आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने के लिए ध्यान को संसाधन के रूप में इस्तेमाल किया। तब से मेरा उनके साथ एक संबंध है और मैंने ध्यान और अपने ज्ञान का उपयोग करके उन्हें पा लिया है या उन्हें मुझमें उतार लिया है। यह अपने में और अपने परिवेश में उनके प्रति अधिक जागरूक होने जैसा है।

हम सभी ने सुना है कि भगवान हम सभी के लिए एक है और वही वास्तविक भगवान है जिससे हम पैदा हुए हैं। उसका नाम वास्तव में भगवान है क्योंकि वह हमारे भीतर विद्यमान है और भगवान भी एक नाम है और यह स्वयं भगवान का है। उन्होंने हम सभी के भीतर खुद को अवतरित किया है क्योंकि हम सभी अपने अंदर वास्तविक रूप से सपने हैं और बाहर हम सभी इंसान हैं। हमारे प्राचीन देवता भी हमारे जैसे ही हैं सिवाय इसके कि वे बड़े हैं और उनमें अधिक शक्तियाँ हैं। लेकिन वास्तविक भगवान या एक भगवान के लिए हम सभी समान हैं और हमारे भीतर सभी वास्तविक सपने हैं। भगवान सभी सपनों के स्वामी है और वह एकमात्र पुरुष है बाकी उनके लिए सभी सपने स्त्रियाँ हैं। उनकी पत्नी वास्तविक स्वप्न देवी हैं जो हम सभी के भीतर इस दुनिया में सभी सपनों को नियंत्रित कर रही हैं और उनके जन्म के बाद उनके साथ फिर से जुड़ जाएंगी और उनके साथ हमारे सभी सपनों के साथ एकजुट हो जाएंगी और इस दुनिया से ऊपर की दुनिया में चली जाएंगी। कुछ प्रसिद्ध ज्योतिषियों जैसे नास्त्रेदमस ने भी 2000 ईस्वी की शुरुआत में भगवान के इस दुनिया में जन्म लेने की भविष्यवाणी की थी। उनके यहां से चले जाने के बाद यह दुनिया समाप्त हो जाएगी और हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी। क्योंकि हम अपने सपनों के बिना रहेंगे और मरे हुओं के समान होंगे और यह सभी मनुष्यों और प्राचीन देवताओं के साथ होगा। यह प्रलय या प्रलय के दिन से शुरू होगा जो कि 7000 ईस्वी के तुरंत बाद होने की भविष्यवाणी है। इसके बाद इस दुनिया को पूरी तरह से खत्म होने में खरबों-खरबों साल से भी ज्यादा का समय लगेगा, जैसा कि यहाँ तक आने में लगा है।

प्राचीन भारतीय देवताओं ब्रह्मा, विष्णु और महेश की त्रिमूर्ति के अनुसार, ब्रह्मा ने यह भी कहा है कि वास्तव में हम सभी अपने भीतर सपने हैं और एक बार हमारे सपने हमसे बाहर आ गए या हमारे सपने यहां से चले गए तो हम सभी मर जाएंगे। इसका मतलब यह है कि प्राचीन देवता भी वास्तविक भगवान के बारे में जानते हैं और मनुष्य या प्राचीन देवताओं सभी उनके लिए सपने की तरह हैं। वास्तविक भगवान ने पहले कभी जन्म नहीं लिया है और इस दुनिया में ऊपर की दुनिया से है और इस दुनिया के लिए नए हैं। मैं जिस नए भगवान की बात कर रहा हूं, उनका वास्तविक नाम भगवान है, जिसका अर्थ है कि वह वास्तविक भगवान है। वह प्राचीन देवता नहीं है जिसका कोई अन्य नाम है जैसे प्राचीन देवताओं का है। चूंकि उन्होंने कभी जन्म नहीं लिया है इसलिए उनका कोई अन्य नाम नहीं है। तो केवल वही नाम और काम से भगवान है। हमारी दुनिया और हम सब उन्ही से निकले हैं इसलिए हम उनसे पैदा हुए हैं और वह हमारे भीतर पाए जा सकते हैं जैसे हम सब सपने हैं।

इस दुनिया के अस्तित्व में आने से पहले कोई और दुनिया नहीं थी और ऊपर की दुनिया में ध्यान में भगवान सर्वव्यापी थे। वह अवतार लेना चाहते थे और दूसरों से मिलना चाहते थे जो उनके साथ सपनों के रूप में पैदा होंगे। उन्होंने स्वयं को ऊपर की दुनिया से इस दुनिया में उतार दिया। फिर उन्होंने दिमाग, शरीर और स्वप्न के रूप में अपने आप को तीन भागों में विभक्त किया। दिमाग की उत्पत्ति यहाँ की ऊपर की दुनिया में हुई जिसमें आज भी प्राचीन देवता मौजूद हैं। शरीर की उत्पत्ति यहाँ की नीचे की दुनिया में हुई जहाँ आज हम मनुष्य मौजूद हैं। नीचे की दुनिया में शरीर ने दिमाग को उसमें उतारा और मनुष्यों ने संयुक्त रूप से ऊपर की दुनिया में प्राचीन देवताओं को बनाया। और सपनों की उत्पत्ति हम सभी मनुष्यों और प्राचीन देवताओं के भीतर हुई। ऐसे में शुरुआत में सपने भगवान के साथ ही अस्तित्व में आए लेकिन उन्होंने अपने जन्म के उद्देश्य को गलत समझा और भगवान से ईर्ष्या की और उन्हें कम करके आंका। उनका इरादा उन्हें मारने का था और इस वजह से उन्होंने अपने शरीर और दिमाग से भगवान को जहर देना शुरू कर दिया जो कि हम मनुष्य और प्राचीन देवता थे। इसका कारण यह है कि उनका शरीर और दिमाग इस नीचे की दुनिया से था और यह नीचे की दुनिया पहले भगवान के बिना थी, इसलिए इसमें जहर के अलावा कुछ भी नहीं था। तो भगवान ने उस समय स्वप्नों के साथ स्वयं को प्रकट नहीं किया और तब से केवल स्वप्न ही अस्तित्व में आए, उनके शरीर और दिमाग के साथ जो नीचे की दुनिया में मनुष्य थे और ऊपर की दुनिया में प्राचीन देवता थे। इस दुनिया में सपनों के अस्तित्व में आने का उद्देश्य भगवान को प्यार देना और उन्हें अपना एकमात्र भगवान के रूप में स्वीकार करना और उनके साथ अपने शेष जीवन के लिए खुश रहना होगा जो उनके साथ रहेगा और हमेशा के लिए अमर रहेगा। लेकिन चूंकि ऐसा नहीं हुआ और वे सभी सपने जिन्होंने भगवान से जन्म लिया, वे इस नीचे की दुनिया से उत्पन्न हुए, उनके शरीर और दिमाग में जहर भर गया और इसलिए भगवान ने उस समय अवतार नहीं लिया।

तब से ब्रह्मांडों से भरी इस दुनिया में सपने अस्तित्व में आए और हम उनसे मनुष्य और प्राचीन देवताओं के रूप में पैदा हुए हैं। ये मनुष्य और प्राचीन देवता जो स्वप्नों से उत्पन्न हुए हैं या स्वप्नों से निकले हैं, वे भूत के अतिरिक्त और कुछ नहीं हैं। इसका मतलब है कि हम सपनों के बिना मरे हुए हैं। इस शरीर और दिमाग को भूत (भगवान या सपनों का अतीत) कहा जा सकता है। और यह भूत इस दुनिया में जहर के कारण बचा हुआ है जो इस नीचे की दुनिया में भरा हुआ है। यह दुनिया ब्रह्मांडों से भरी हुई है और हमारे ब्रह्मांड के ऊपर और नीचे अन्य ब्रह्मांड हैं और यह दुनिया जहर से भरी है जो हमारे यहां इतने लंबे समय तक जीवित रहने का कारण है। जैसे ही जहर यहां खत्म होगा हम खत्म हो जाएंगे क्योंकि जहर हमारे अस्तित्व के लिए उपलब्ध नहीं होगा। इसलिए प्राचीन देवता हम सभी के भीतर एक दिमाग की तरह अस्तित्व में आए जो इस दुनिया में पाए जाने वाले हर जहर को उत्पन्न करने और संग्रहीत करने में मदद करते हैं और हमें उस जहर को खिलाते हैं इसलिए हम मृत्यु के बाद भी उनके भीतर पाए जाते हैं और दूसरे शरीर के रूप में दूसरे जीवन में लाए जाते हैं जो फिर से जहर पर निर्भर है। अब समय आ गया है कि यह जहर समाप्त हो गया है और कोई नया शरीर जन्म नहीं ले रहा है जिसमें कोई स्वप्न पाया जाता है। केवल संचित जहर का उपयोग किया जा रहा है और उन शरीरों में उत्पन्न हो रहा है जो जन्म ले रहे हैं और जो बिना सपनों के मृत समान हैं। इसके अलावा वजह ये है की ऊपर की दुनिया में प्राचीन देवताओं के दिमाग को पूरी तरह से नीचे की दुनिया में मनुष्यों के शरीर में उतार लिया गया है। तो अब नए शरीरों का नया जन्म समाप्त हो गया है। यानी वे सभी सपने जो जन्म ले सकते थे, ले लिए हैं और सपनों वाला कोई नया शरीर अब जन्म नहीं लेगा।

जब भगवान मनुष्य के रूप में जन्म लेंगे तो उन्हें भी वही शरीर और दिमाग जो भूत कहलाते हैं, जहर से भरे हुए मिलेंगे। फिर वह हम सभी के शरीर और दिमाग के उन सभी भूतों को मार डालेंगे और अपने भीतर हम सभी के सपनों के साथ एक हो जायेंगे जो हमारा मूल शरीर और दिमाग एक व्यक्ति के सपने के रूप में है और बिना जहर के है। यह हमारे उद्धार के लिए किया जाएगा और फिर वह हमें अपने साथ ऊपर की दुनिया में ले जायेंगे जो एक दूसरी दुनिया है जहां से वह आये है जहां हम सभी उनके साथ मौजूद रहेंगे क्योंकि हम सब जो उनके सपने है हकीकत में होंगे। ऊपर की दुनिया हमेशा के लिए अमर रहेगी क्योंकि हम में से हर एक एक सपने के रूप में वहाँ भगवान के साथ एक हो जायेंगे और उनके साथ एक रहेंगे। हमारे सपनों को हम से निकाल कर और हमारे सपनों के साथ एकजुट होकर उनके यहाँ से चले जाने के बाद हम सभी मरे हुओं की तरह हो जाएंगे और यह दुनिया मर जाएगी एक लंबे समय में जैस ये हुई है, जिसमें हम सभी इंसान और प्राचीन देवता भी शामिल हैं।

भगवान हीरे से बने हैं और स्वप्न देवी सोने से बनी है। इसलिए हम उन्हें सोना या हीरा कहते हैं जिसका अर्थ है भगवान। उन्हें साथ में भगवान कहा जाता है क्योंकि वह सभी सपनों के स्वामी है और स्वप्न देवी भगवान की पत्नी है। यह सपना हम सभी के भीतर पाया जाता है और हम यह सपना हैं और सपने के रूप में भगवान से मिलेंगे। तो हम सोना होंगे और वो हीरा। साथ में हम मिलकर भगवान होंगे। तो यह हम पर निर्भर करता है कि हम उनके बारे में और जानें ताकि हम उनके संपर्क में रहें, उनके साथ एक बंधन रखें और उन लोगों से पहले उनसे मिलें जो अभी तक उनके बारे में नहीं जानते हैं क्योंकि उन्होंने पहले अवतार नहीं लिया है। इससे हमें अपने सपनों को बेहतर बनाने और अच्छे सपने देखने में मदद मिलेगी। हमें एक ऐसा जीवन जीना चाहिए जो हमारे सपनों से निकलता है और हम भी जीने के लिए एक सपने की तरह होंगे क्योंकि सपने हमेशा सच होते हैं और भगवान के समान होते हैं। उन्हें जानने के बाद हम शांति से रहेंगे और जीवन में और कोई तनाव या गलतफहमी नहीं होगी जैसे हमारे मरने के बाद हमारा या दूसरों का क्या होगा या हमारे यहां से जाने के बाद हमें कौन मिलेगा। क्योंकि हम हमेशा उनके साथ रहेंगे ऊपर की दुनिया में रहने वाले सपने बनकर इस दुनिया के खत्म होने के बाद।

कृपया इस वेबसाइट की सेवाओं का लाभ उठाएं जहां आप मेरे साथ नए भगवान पर अपने विचारों के बारे में चर्चा कर सकते हैं और उनके बारे में और जानने के लिए अपने प्रश्नों का समाधान प्राप्त कर सकते हैं। अधिक विवरण के लिए सर्विसेज पेज पर जाएं।